लिखने का हक़

हाथ में कलम लिऐ बैठा है वो,
कुछ लिखना चाहता है,
किसी के बारे में,
पर सोच रहा है,
क्या उसे हक़ है उसके बारे में लिखने का,
वो हक़ अब किसी और का है,
अब वो उस पर कुछ नहीं लिखेगा,
कभी नहीं,

कभी वो खिड़की के बाहर झाँकता है,
तो कभी कमरे के फर्निचर को घूरता है,
फिर मेज़ की दराज़ में रखी तस्वीरों में कुछ खोजता है,
कहीं तो कोई विषय मिलेगा कुछ लिखने के लिए,
शायद अखबार में ही कुछ मिल जाए,

फिर कुछ सोच कर रुक जाता है,
एक बार उसने कहा था,
“अगर लिखने के लिए कुछ ढूँढना पड़े तो मत लिखो”
पर आज उसे कुछ लिखना है,
उसका मन बहुत बेचैन है,

डायरी के पन्ने पलटता है,
कुछ अधूरी कविताओं की उम्मीद बँधती है,
एक कविता पढ़ कर उसमें एक लाईन जोड़ता है,
फिर मिटा देता है,
अधूरी कविता फिर अधूरी रह गई,

फिर एक नए पन्ने पर कुछ लिखता है,
एक बच्चे के बारे में,
उनकी मासूमियत हमेशा साथ देती है,
उनके भोलेपन के बारे में लिखते लिखते,
उसकी मासूमियत याद आ जाती है,

वो फिर रुक जाता है,
फिर सोचता है,
उसने ये भी कहा था कि
“शब्द अगर खुद बह रहे हों तो उन्हे रोकना नहीं चाहिए”
और वो फिर लिखने लग जाता है,
उस पर एक नई कविता…

‘आपकामित्र’ गुरनाम सिहं सोढी
१२ मई, २०१२

hatth me kalam liye baitha hai wo,
kuch likhna chahta hai,
kisi ke bare me,
par soch raha hai,
kya use haq hai uske bare me kuch likhne ka,
wo haq ab kisi aur ka hai,
ab wo us par kuch nahi likhega,
kabhi nahi,

kabhi wo khidaki ke bahar jhankta hai,
to kabhi kamre ke furniture ko ghoorta hai,
fir mez ki daraaz me rakhi tasveeron me kuch khojta hai,
kahin to koi vishay milega kuch likhne ke liye,
shayat akhbaar me hi kuch mil jaye,

fir kuch soch kar ruk jata hai,
ek baar usne kaha tha,
“agar likhne ke liye kuch dhoondhna pade to mat likho”
par aaj use kuch likhna hai,
uska man bahut bechain hai,

diary ke panne palatata hai,
kuch adhoori kavitaon ki umeed bandhati hai,
ek kavita padh ke usme ek line jodta hai,
fir kuch soch kar use mita deta hai,
adhoori kavita fir adhoori reh gayi,

fir ek naye panne par kuch likhta hai,
ek bache ke bare me,
unki masumiyat hamesha saath deti hai,
unke bholepan ke bare me likhte likhte,
uski masumiyat yaad aa jati hai,

wo fir ruk jata hai,
fir sochta hai,
usne ye bhi kaha tha ki
“shabd agar khud beh rahe ho to unhe rokna nahi chahiye”
aur wo phir likhne lag jata hai,
us par ek nayi kavita

:)aapkamitrgss
Gurnam Singh Sodhi
12th May, 2012

Advertisements

2 thoughts on “लिखने का हक़

  1. गुलेरी जी की "उसने कहा था " याद आ गई . " तेरी कुड़माई हो गई ? " "हाँ हो गई देखते नहीं यह रेशम से काढ़ा हुआ सालू ""उस " की कहानी

  2. Alok Mohan says:

    waise aapne bahut kuch likh diya hai http://blondmedia.blogspot.in/

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s