वो नादान लड़की

एक नादान सी लड़की,
अपनी ही दुनिया में मस्त,
आँखों में एक भोली सी शरारत,
बातों में एक लखनवी नज़ाकत,
खुद हमेशा मुस्कुराती,
अपनी बातों से सबका दिल जीत जाती है,
उसकी कोई चुलबुली सी शरारत पकड़ी जाए तो,
बच्चों की तरह आँखें बंद कर मुँह छुपा लेती है,

वो नादान सी लड़की,
अपनी दुनिया में अकेली रहती है,
अकेले ही उसमें घूमती है,
अपने छोटे से बैग में जाने क्या क्या भरा है उसने,
कुछ उम्मीदें,
कुछ सपने,
कुछ जो टूट गए थे,
उन सपनों के कुछ टुकड़े,
साथ ही रखे हैं कई पल संजो कर,
जो वो बिताती है खुद के साथ कई बार,
जिन्हे जीती है वो बार बार,
और कुछ कवितएँ, कुछ कहानियाँ,
जो लिखी हैं अपने अकेले पलों में,
अपनो को याद करके,

किसी और को हिस्सा नहीं बनाती अपनी कहानी का,
कहती है कि किरदार बढ़ जाएँ,
तो कुछ ठीक नहीं रहता,
किरदार अपने मन की करते हैं
और उसका मन दुखाते हैं,

ये कहानियाँ वो लिखती भी खुद है,
और पढ़ती भी खुद है,
अपनी कहानी पढ़ा कर वो किसी को उदास नहीं करना चाहती,
वो तो बस सब को खुश देखना चाहती है,

मैं जब भी उसकी आँखों में देखना चाहूँ,
तो आँखे झुका लेती है,
मैं बस ये जानता हूँ कि वो खूबसूरत हैं,
पर उनमें है क्या, ये बहुत कम लोग जानते हैं,

वो कहती है कि मैं उसकी कहानी का हिस्सा नहीं बन सकता,
कहती है कि ज़रुरत नहीं है,
ना उसे मेरी, ना मुझे उसकी,
और मैं बस ये कहता हूँ कि,
उसका हर बार सही होना ज़रुरी तो नहीं,

‘आपकामित्र’ गुरनाम सिहं सोढी
१७ मई, २०१२

ek nadaan si ladki,
apni hi duniya me mast,
aakhon me ek bholi si shararat,
baato me ek lakhnawi nazakat,
khud hamesha muskurati,
apni baaton se sabka dil jeet jati hai,
uski koi chulbuli si shararat pakdi jaye to,
bacho ki tarah aakhein band kar munh chupa leti hai,

wo nadaan si ladki,
apni duniya me akeli rehti hai,
akele hi usme ghoomti hai,
apne chote se bag me jane kya kya bhara hai usne,
kuch ummeedein,
kuch sapne,
kuch jo toot gaye the,
un sapno ke kuch tukde,
sath hi rakhe hain kai pal sanjo kar,
jo wo bitati hai khud ke sath kayi baar,
jinhe jeeti hai wo baar baar,
aur kuch kavitayein, kuch kahaniyan,
jo likhi hai apne akele palo me,
apno ko yaad karke,

kisi aur ko hissa nahi banati apni kahani ka,
kehti hai ki kirdaar badh jayein
to kuch theek nahi rehta,
kirdaar apne man ki karte hain,
aur uska man dukhate hain,

ye kahaniyan wo likhti bhi khud hai,
padhti bhi khud hai,
apni kahani padha kar wo kisi ko udaas nahi karna chahti,
wo to bas sab ko khush dekhna chahti hai,

main jab bhi uski aakhon me dekhna chahu,
to aakhein jhuka leti hai,
main bas ye janta hoon ki wo khoobsurat hain,
par unme hai kya, ye bahut kam log jaante hain,

wo kehti hai ki main uski kahani ka hissa nahi ban sakta,
kehti hai ki zarurat nahi hai,
na use meri na mujhe uski,
aur main bas ye kehta hoon ki,
uska har baar sahi hona zaruri to nahi

:)aapkamitrgss
Gurnam Singh Sodhi
17th May, 2012

Advertisements

6 thoughts on “वो नादान लड़की

  1. Preanca says:

    No words coming out of my mind or heart. U have a long wau to go as a poet.. U have an enormous talent to express your emotionals so well. Keep it going….Beautiful creation. 🙂

  2. VARUN says:

    Awesome !! With words I can visualize the sweet girl .. Great

  3. सदा says:

    हमेशा की तरह लाजवाब प्रस्‍तुति

  4. @Preanca: jiske bare me likha, wo lovely isliye creation bhi lovely. ;)@Varun: thank you janaab. aapne dekhi hui hai isliye jaldi visualise ho gaya..@sada ji : bahut bahut shukriya ma'am 🙂

  5. पर है कौन यह नादान लड़की?हमें भी तो पता चले 🙂

  6. @prateek : janaab aap hi ke surname wali hain waise. 😀

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s