नदी किनारे बैठी एक लड़की

नदी किनारे बैठी एक लड़की,
फिर भी उसे कुछ प्यास थी,
बार बार डुबोती अपने हाथों को पानी में,
शायद किसी लहर को पकड़  लेने की आस थी,

हर लहर को अपना साथी समझती,
उस से बातें करती,
उस में अपना अक्स देखती,
उस से कुछ सवाल पूछती,
फिर वो लहर जब दूर जाने लगती,
तो वो उसे रोकने के लिए हाथ उठाती,
पर फिर खुद को रोक लेती,
उसे जाने देती,
समझ जाती कि वो लहर नहीं रुकेगी,

फिर वो एक कंकर उठाती,
याद है उसे प्यासे कौए की कहानी,
जिसकी प्यास इन कंकरों ने ही बुझाई थी,
क्या उसकी प्यास ये बुझाएँगे,
एक एक कर कंकर नदी में फेंकती है,
पर कोई फायदा नहीं,
नदी की भी ज़िद्द है शायद,
उन कंकरों से या शायद उस से,

अकेले बैठी सोचती है,
चाँद से बातें करे या इस हवा से,
या अपने घोंसलों की ओर लौटते पक्षियों से अपना सवाल पूछे,
पर नहीं,
नदी और कंकर उसे निराश कर चुके हैं,
आज वो और निराश नहीं होना चाहती,
उठती है और चल देती है घर की ओर,
पर मन में फिर भी एक सोच,
कि शायद चाँद दे पास उसके लिए कोई जवाब होता।।।

‘आपकामित्र’ गुरनाम सिहं सोढी
२२ मई, २०१२

nadi kinare baithi ek ladki,
phir bhi use kuch pyaas thi,
baar baar duboti apne hatho ko pani me,
shayad kisi lehar ko pakad lene ki aas thi,

har lehar ko apna sathi samajhti,
us se baatein karti,
us me apna aks dekhti,
us se kuch sawaal puchti,
phir wo lehar jab door jane lagti,
to wo use rokne ke liye hath uthati,
par fir khud hi ruk jati,
use jane deti,
samajh jati ki wo lehar nahi rukegi,

phir wo ek kankar uthati,
yaad hai use pyase kauwe ki kahani,
jiski pyaas in kankaro ne bujhayi thi,
kya uski pyaas ye bujhayenge,
ek ek karke kankar nadi me fenkti hai,
par koi fayda nahi,
nadi ki bhi zidd hai shayad,
un kankaro se ya shayad us se,

akele baithi sochti hai ki,
chaand se baatein kare ya is hawa se,
ya apne ghonslo ki aur lautate pakshiyon se apna sawaal puche,
par nahi,
nadi aur kankar use nirash kar chuke hain,
aaj wo aur nirash nahi hona chahti,
uthati hai aur chal deti hai ghar ki aur,
par man me phir bhi ek soch,
ki shayad chand ke paas uske liye koi jawaab hota….

🙂 aapkamitrgss
Gurnam Singh Sodhi
22nd May, 2012

Advertisements

4 thoughts on “नदी किनारे बैठी एक लड़की

  1. कोशिश जरूर करनी चाहिए .. निराशा से नहीं जीना चाहिए …

  2. ji digambar ji 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s